राज्य सरकार ने मैथिली भाषा एवं साहित्य के विकास तथा मिथिला की गौरवमयी  सांस्कृतिक परम्परा के पोषण एवं संरक्षण के उद्देश्य से मैथिली अकादमी की स्थापना का निर्णय लिया है।

 यह एक पंजीकृत स्वायत्त संस्था होगी तथा इसके समुचित संचालन हेतु   एक कार्य-समिति तथा एक सामान्य परिषद्‌ गठित किया जायेगा जिससे अकादमी अपने निर्धारित उद्देश्य-उद्देश्यों की प्राप्ति कर सके। इसका पूर्ण व्यय भार राज्य सरकार (शिक्षा विभाग) वहन करेगी और उसके लिए वार्षिक अनुदान स्वीकृत करेगी। प्रतिवर्ष इसके लिए ।,75,000/- स्वीकृत किये गये हैं और वित्तीय वर्ष 975-76 में 58,000/- (अंठावन हजार रुपये) स्वीकृत है।

 अकादमी की निम्नलिखित चार प्रमुख शाखाएँ होगी :-
(क) अनुवाद एवं प्रकाशन शाख्या,
(खा) लोक मंच एवं लोक संगीत शाख्या,
(ग) अनुसंधान शाखा एवं.
(घ) आयोजन शाख्या ।

अकादमी के समुचित संचालनार्थ एवं लक्ष्यों की पूर्ति के हेतु निर्मित मेमोरेन्डम ऑफ एसोसिएशन में निर्धारित नियमों के अनुसार कार्य सम्पादित किये जायेंगे। | आदेश-आदेश है कि इस संकल्प को बिहार राजपत्र में प्रकाशित. किया जाय एवँ समिति के सभी सदस्यों को इसकी प्रतिलिपि भेजी जाय।

ह० गजेन्द्र नारायण

सरकार के संयुक्त सचिव, शिक्षा विभाग
बिहार।

Brand Slider